0

Advertisement ka jadugar Advertising का बेताज बादशाह

Advertising ka jadugar

Advertising का बेताज बादशाह

 Advertisement Ka Jadugar

 

( थॅामस जे बरेल thomas j. burrell Advertisement ka jadugar थॅामस जे बरेल thomas j. burrell का

ध्यान पढ़ने लिखने में कतई नहीं लगता था. इसलिए वो क्लास में हमेशा पीछे रहेते. स्कूल में ली जानेवाली

सामान्य ज्ञान Exam में और बौधिक टेस्ट में भी हमेशा पीछे रहेतेथे.

 

यही कारण वंश उनके माता पिता को थॅामस thomas j. burrell  की बहुत ही चिंता होने लगती की थॅामस

thomas बड़ा होकर क्या करेगा उसकी जिंदगी कैसी चलेगी … इस बात की वजह से वो हमेशा परेशान रहेने

लगे और यह परेशानी उन्होंने थॅामस thomas j. burrell के टीचर को भी बताई तो थॅामस के टीचर ने उनके

माता – पिता का धीरज बढ़ाते हुए कहा की आप जादा चिंतित मत हो – परेशान मत हो और थॅामस के पास

कलात्मक बुद्धी है. और आगे जाकर वह अपना यह हुन्नर जरुर संभालेगा.

 

1960 Advertisement ka jadugar

कुछ साल बाद थॅामस जे बरेल के इस कलागुण और उनके लिखान को देखकर उनके एक दोसत ने Advertise

लिखने की सलाह दी और उन्होंने वैसी नौकरी तलाश करना चालू किया कुछ दिनो की कोशिश के बाद उन को

इस सन 1960 में वेड Advertisement कंपनी में मेल विभाग में 50 डॉलर महीने की नौकरी मिली.

 

लेकन उनका इस काम में  भी मन नहीं लग रहा था क्योंकी उन को Advertisement लिखने में ही बड़ी दिलचस्पी

थी . एक दिन उन्हों ने कंपनी के M.D. से बात की और उनको सबकुछ अपनी हुनर काबिलियत के बारे में बताया

और कंपनी के M.D. से कहा की अगर आप मुझे Ad लिखने का एक मौका देते हो तो इस का ज़रूर कंपनी को भी

फ़ायदा होगा और थॉमस ने अपने कुछ लिखे हुए Advertisement भी कंपनी के M.D. को बताये.

 

थॉमस thomas j. burrell की बाते सुनकर उनका काम के प्रति जूनून देख कर और उन के की लिखी हुई

Advertisement देखने के बाद M.D. ने उनको उनके कंपनी में Advertise लिखने का मौका दिया और

फिर थॉमस जे. बरेल thomas j. burrell कंपनी के लिए Advertise लिखने लगे उन के लिखे हुए Ad को

बहुत ही अच्छा रिस्पोंस मिल रहा था .

 

कुछ साल Ad लिखने का experience होने के बाद थॉमस ने 1971 को अपनी खुद की ही Ad कंपनी चालू की पहले

कुछ दिन उन को बहुत सारी कठिनाइयो का सामना करना पड़ा बहुत मुसीबते आई और पहेले 6 महीनो में ही कंपनी

का दिवाला निकल गया लेकीन थॉमस thomas जे ने अपनी हार नहीं मानी ना डगमगाए हिम्मत से डटे रहे .

1970

और फिर 1971 में उनको Mcdonalds के रुप मे एक बङा Brand मिला और उनकी वह Ad को बहुत ही रिस्पांस

Response मिला और फायदा हुआ उसके बाद तो थॉमस जे के पास कंपनी की लाईने लग गयी कोका कोला , फोर्ड

मोटर्स , जॅान्सन अॅन्ड जॅान्सन ,पॅाकटर अॅन्ड गॅम्बल in सभी कंपनी के Ad थॉमस की  कंपनी ने ही बनवाये थे और

देखते देखते ही थॉमस ने बहुत कामयाबी हासील की और उनकी कार्य करने की शैली का गौरव किया गया उनको

दुनिया का बहुत ही उच्च सर्वोच्च पुरस्कार किलेयो ( Clio Award) से उनको सनमानित किया गया.

realindiaguru

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *